रूस और यूक्रेन की जंग के की वजह से अगर किसी तीसरे मुल्क को सबसे ज़्यादा मुसीबतों का सामना करना पड़ा है, तो वो है भारत.. यूक्रेन जंग के बीच भारत दो बड़ी ताकतों यानी रूस और अमेरिका के बीच बुरी तरह फंस गया था.. एक तरफ था भारत का सबसे करीबी दोस्त रूस, तो दूसरी तरफ था दुनिया में सुपरपावर का दर्जा हासिल कर चुका अमेरिका, जो चीन के खिलाफ बनाए गए क्‍वॉड में भारत का सहयोगी देश भी है.
Due to the war between Russia and Ukraine, if any third country has faced the most troubles, then it is India. On one side was Russia, India’s closest friend, and on the other side was America, which has achieved the status of superpower in the world, which is also India’s ally in the quadrature against China.

#PMModi #America #RussiaUkraineWar #ThirdWorldWar #NATO #Biden #Modi #PMNarendraModi #India

Credit : #International | #JunaidBhati/Producer | #Nageshvar/Editor | #TV9D

हमारे नए चैनल KNOW THIS को यहां जाकर सब्सक्राइब करें- https://bit.ly/3hLNRhl
For Latest news visit | https://www.tv9hindi.com/
Subscribe to TV9 Bharatvarsh https://goo.gl/udchcy
Follow TV9 Bharatvarsh on Facebook | https://www.facebook.com/TV9Bharatvarsh/
Follow TV9 Bharatvarsh on Twitter | https://twitter.com/TV9Bharatvarsh
Watch more TV9 Bharatvarsh Videos | https://www.tv9hindi.com/videos
Know All About Political News | https://www.tv9hindi.com/india
Know All About Trending News| https://www.tv9hindi.com/trending
Know All about Business news | https://www.tv9hindi.com/business
Know All about Latest Bollywood News| https://www.tv9hindi.com/entertainment
#TV9Bharatvarsh #HindiNewsLive

source

36 Responses

  1. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को विश्व का नेता बनाओ अंतरराष्ट्रीय मंच पर वे सर्वमान्य नेता है विदेश फन की बात बड़े ध्यान से सुनी जाती है

  2. मोदीजी भले दुनिया जीत ले l भारत के अंतरराष्ट्रीय मीडिया को नहीं जीत सकते हैं l

  3. अमेरिकन पालिसी सदा भारत के लिए द्विविधा मे डालने वाला साबित होता रहता है।
    अमेरिका भारत और रूस की दोस्ती को कभी भी सहज रूप मे नही लेता। अमेरिका हमेसा भारत को एक खरीददार से अधिक नही देखता है। भारत अमेरिका की निगाह मे एक बाजार से अधिक नही है।
    जबकी भारत रूस की दोस्ती एक दूसरे के प्रति आदर सम्मान के साथ साथ एक दंसरे को आवश्यकता अनुसार खरा उतरा है। जब अमेरिका के संबंध पाकिस्तान से सर्वोच्च प्रार्थमिकता पर पाकिस्तान के लिए सबकुछ करने को तैयार था यह तो इतिहास गवाह है।
    इन मुश्किल घड़ी मे भी रूस हमारे साथ कंधे से कंधा मिलाकर खडा रहा है, इसे हम कैसे भूल सकते है। हमारी दोस्ती समय की कसौटी पर खरा है। इसे हम कैसे दरकिनार कर सकते है।
    इसलिए रूस हमारा एक दोस्त ही नही एक सर्वकालिक भरोसेमंद सहयोगी मुल्क रहा है जब कठिन समय आया तब रूस ही साथ खडा दिखा जब और दूसरे देश कही दूर दूर तक दिखाई नही दे रहे थे।
    अमेरिकन पॉलिसी कश्मीर पर, पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर, पर 1998 मे भारत कै न्यूक्लियर टेस्ट पर भारत पर लगाये गये प्रतिबंध पर,यूएन मे स्थायी सदस्यता पर, न्यूक्लियर सप्लाई ग्रुप की सदस्यता पर अभी भी भारत के प्रति अमेरिकन सोच खिलाफ ही है। जबकि रूस, इजराइल, फ्रांस का रूख सै अमेरिका भलीभांति परिचित है। इतिशुभम

  4. We never avoid Russia due to their earlier help India. Russia our best friend in the world. Our Hindu religion never teach selfishness. This time Russian need our help so must be there India, we Hindu Sanatan religion's.

  5. S . Jasihankar UK Videsh mantri ji UAE high Court baithak
    Rajesh Singh Ji CSTO Moscow high Court baithak
    NSA DIVISIONAL commissioned Army Chief Europeans high Court baithak
    G 17 Moskva high Court baithak
    G 20 Finland high Court baithak
    Quad Switzerland high Court baithak
    NATO Chief Australia high Court baithak

  6. Har ak aadmi janta Hain , Ukraine and Russia ke jo war hain ,uska Kara America hain . Ukrainian and Russian is like brother . America khilap aapki channel ko to news bananeki dam Nehi hai sabko pata Hain . Isliye Ukraine and Russia ki jo war hain ,us phate ki aandar pair dalneki jarurat Nehi hain

  7. Bharat should never trust USA. USA just in time tell you to stop and refuse to support parts of American machinery. Never please never trust USA and never depend upon the words of USA. Only interest USA knows is its own.

  8. अमेरिका भी सोच समझ ले अच्छे तरीके से भारत भी साथ नहीं छोड़ेंगे अकेला चीन का अच्छी तरह से जहन में उतार लिया है, क्या करूँ ना करू सुझे हा

Leave a Reply

Your email address will not be published.